हर्बल खाद को हम गड्ढा खाद भी कहते हैं इसके अंदर हम 5 फीट गहरा 5 फीट चौड़ा और 10 फीट लंबे आकार के तीन से चार गड्ढे ( अपनी आवश्यकतानुसार ) कर लेते हैं

फिर इसके अंदर आधे फिट तक नीम आग धतूरा के पत्ते या टहनियों को बारीक काटकर गड्ढे में चारों तरफ फैला देते हैं उसके बाद में उसके ऊपर 2 फीट तक गोबर बिछा देते हैं फिर वापस नेम आग धतूरा लगाकर गोबर डाल देते हैं जब गड्ढा पूर्णतया भर जाए तो उसमें एक बार फुल पानी लगा कर उसको मिट्टी से बंद कर देना चाहिए ऊपर और यह खाद 4 से 5 महीने के भीतर तैयार हो जाती है फिर इसको हम पौधे की आवश्यकता के अनुसार पौधे में डाल सकते हैंंगड्ढा विधि के लाभ – गड्ढे में खाद तैयार करने से जो भी पोषक तत्व रहते हैं वह पानी के साथ बहकर कहीं नहीं जाते हैं

गड्ढे में खाद तैयार करने से खरपतवार के बीज नष्ट हो जाते हैं जिससे भूमि पर खरपतवार कम उगते हैं

गड्ढा विधि तैयार खाद को पौधे में डालने पर पौधे की उचित वृद्धि होती है

गड्ढा विधि से तैयार खाद में जमीनी रोग कम लगते हैं और दिमाग से भी बचाव होता है

 

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें