1. *बोडो पेस्ट*

इसे बनाने के लिए 1 किलो चूना और 1 किलो नीला थोथा यानी कॉपर सल्फेट का प्रयोग करते हैं

 

इन दोनों सामग्रियों को प्लास्टिक के बर्तन में 5 -5 लीटर पानी में अलग-अलग मिलाएंगे नीला थोथा को पोटली बांधकर पानी में भी लटका देना बेहतर होगा दूसरे दिन सुबह दोनों को अलग अलग छानकर तीसरे पात्र में धार मिलाते हुए मिलाएं । 

फिर इसमें लोहे का चाकू डूबा कर देखिए यदि चाकू में तांबा जम जाता है ,तो आपका बोर्डो मिश्रण पूरी तरह से तैयार नहीं है आपको इसे उदासीन करना होगा याने चुने की मात्रा थोड़ी और बढ़ानी होगी इस तरह से जब आप चाकू में तांबा ना जमे तब समझ जाएं बोर्डो मिश्रण तैयार है बोर्डेक्स मिश्रण को जाँच करने की विधि :

 

किसानो को इस बात का ध्यान रखना होगा की बोर्डेक्स मिश्रण में कॉपर की अधिकता नहीं होनी चाहिए  क्योकि यह पौधो के लिए विषाक्त होती है| इस की जाँच के लिए किसान लोहे की कील / चाक़ू को घोल में कुछ समय के लिए डुबोए| किसान को यह ध्यान देना होगा की अगर कॉपर अधिक होगा तो कील / चाक़ू भूरे / लाल रंग का हो जाएगा|  कॉपर अधिक होने की स्थिति में किसान को घोल में चूना और अधिक मिलाना चाहिए, जब तक की चाकू/ कील से भूरा / लाल रंग हट नहीं जाता है| इस की जाँच की लिए किसान बाजार में उपलब्ध पी. एच. पेपर का भी उपयोग कर सकते है|

 

किसान के ध्यान रखने योग्य बातें:

 

किसानो को बोर्डेक्स मिश्रण का घोल तैयार करने के तुरंत बाद ही इसका उपयोग खेत या बगीचे में कर लेना चाहिए|

कॉपर सलफेट का घोल तैयार करते समय किसानो लोहें / गैल्वेनाइज्ड बर्तन को काम में नहीं लेना चाहिए|

किसानो को यह ध्यान रखना हो की वे बोर्डेक्स मिश्रण को किसी अन्य रसायन या पेस्टिसाइड के साथ में इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए|  

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें